डॉ मनमोहन सिंह - TIR News - The India Review


 

डॉ मनमोहन सिंह

August 11, 2018

“राष्ट्र की सच्ची ताकत अपने राज्य को नीच प्रवृति से बाध्य करने में नहीं – बल्कि मूल्यों की मजबूती और उसके नैतिक चरित्र की ताकत में है”

डॉ मनमोहन सिंह प्रसिद्ध रूप से दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र देश भारत के पहले सिख प्रधान मंत्री के रूप में जाने जाते हैं। डॉ मनमोहन सिंह के कई और पहलू हैं जो जनता के लिए काफी हद तक अज्ञात हैं। डॉ सिंह का जन्म अविभाजित भारत (पाकिस्तान में भारत के विभाजन से पहले) पंजाब के गह गांव में गुरुमुख सिंह और अमृत कौर के यहाँ हुआ था।

१९‍४७ में भारत के विभाजन के बाद जब भारत ने आजादी हासिल की, तो उनका परिवार उत्तर भारत के पंजाब राज्य के पवित्र शहर अमृतसर में बस गया जहां डॉ सिंह ने अपना अधिकांश बचपन बिताया। जब वह काफी छोटे थे, तब उनकी मां की असामयिक मृत्यु हो गयी इसके पश्चात उनकी दादी ने उनका पालन पोषण किया। १‍९४० के दशक में डॉ मनमोहन सिंह पंजाब के एक ऐसे छोटे से गांव में पले-बढ़े जहाँ पर बिजली की किल्लत और निकटतम विद्यालय काफी मील दूर थे , फिर भी दृढ़ निश्चय और आत्मनिर्णय इस युवा लड़के को शिक्षा से रोक नहीं पाए और उन्होंने मीलों दूर स्कूल तक चलना जारी रखा और केरोसिन दीपक की मंद रोशनी के नीचे अध्ययन किया करते थे। इतनी कम उम्र में ही इतनी सारी विपत्तियों का सामना करने के बावजूद भी वह एक उज्ज्वल छात्र थे और हमेशा अपने अकादमिक करियर के अपने वर्ग में जीतने वाले विजेताओं और छात्रवृत्ति के शीर्ष में रहे।

चंडीगढ़, के प्रसिद्ध और सम्मानजनक पंजाब विश्वविद्यालय मे अपनी स्नातक और स्नातकोत्तर अध्ययन पूरा करने के बाद, वह छात्रवृत्ति पर अर्थशास्त्र में द्वितीय स्नातकोत्तर करने के लिए ब्रिटेन के कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में गए। इसके बाद, उन्होंने ब्रिटेन में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में अपने डॉक्टरेट का अध्ययन पुरा किया। ‘भारत के निर्यात प्रदर्शन, १‍९५१-१‍९‍६०, निर्यात संभावनाओं और नीतिगत प्रभावों’ नामक उनके डॉक्टरेट थीसिस ने उन्हें कई पुरस्कार और सम्मान जितवाये और उनकी भारत में आर्थिक स्थिति की समझ को मजबूत किया। स्वभाव से वे बेहद सरल थे इसके बावजूद वे कैम्ब्रिज और ऑक्सफोर्ड में शिक्षकों और प्रोफेसरों के पसंदीदा छात्र बन गए थे।

ब्रिटेन में प्रशंसा और सराहना प्राप्त करने के बाद डॉ मनमोहन सिंह भारत अपनी मूल अमृतसर में लौट आए और स्थानीय कॉलेज में पढ़ाना शुरू कर दिया। हालांकि, यह उज्ज्वल और बुद्धिमान व्यक्ति जीवन में और अधिक योग्य चीजों के लिए बने थे। प्रसिद्ध अर्थशास्त्री राउल प्रेबिस्च के अंतर्गत स्विट्जरलैंड में व्यापार और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन के कार्यकाल के बाद डॉ सिंह को भारत की राजधानी दिल्ली में स्थित प्रतिष्ठित दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में पढ़ाने का प्रस्ताव मिला। यह आवाज देशभक्ति भी हो सकती है उन्होंने भारत लौटने का फैसला किया जिसमें राउल प्रेबिश ने उन्हें यह भी कहा कि वह उनकी नौकरी छोड़कर जो कि अर्थशास्त्रियों का एक सपना होता है मूर्खतापूर्ण गलती कर रहे हैं ।

अप्रचलित, वह भारत लौट आए और जल्द ही १‍९७० के दशक में वह भारत के प्रधान मंत्री के आर्थिक सलाहकार पद के लिए पहली पसंद बन गए। उनकी नेतृत्व की क्षमता ने उन्हें योजना आयोग के प्रमुख का मुख्य आर्थिक सलाहकार चुना गया और बाद में डॉ सिंह अत्यधिक सम्मानित और महत्वपूर्ण भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर भी बने. यह बहुत ही रोचक था की कैसे एक अर्थशास्त्री होने बावज़ूद उन्होंने जून १‍९९१ में स्वर्गीय प्रधान मंत्री पी.वी. नरसिम्हा राव के अंतर्गत वित्त मंत्री का पद प्राप्त करते हुए अपने राजनीतिक कैरियर की शुरुआत की।

यह कहना गलत नहीं होगा कि इस समय १‍९९१ में, भारत की अर्थव्यवस्था में भारी उथल-पुथल थी। अधिकांश क्षेत्रों में विशेष रूप से विनिर्माण क्षेत्र में न्यूनतम आर्थिक वृद्धि हुई जो कि बहुत संकटकालीन था। नौकरी बाजार सबसे निचले बिंदु पर था और रोजगार दर नकारात्मक थी। कुल मिलाकr लोकतांत्रिक भारत की अर्थव्यवस्था असंतुलन थी क्योंकि राजकोषीय घाटा देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के ८.५ प्रतिशत के करीब था। सरल शब्दों में कहा जाए, भारत को एक बड़ा आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा था और किसी भी अर्थशास्त्री के लिए अर्थव्यवस्था को सही रास्ते पर वापस लाने के लिए यह बेहद चुनौतीपूर्ण था। इसलिए, डॉ मनमोहन सिंह के कंधों पर भारी जिम्मेदारी आ गई। विशाल ज्ञान के साथ एक शानदार अर्थशास्त्री के रूप में, उन्होंने तब प्रधान मंत्री को समझाया कि भारतीय अर्थव्यवस्था को अभूतपूर्व संकट का सामना करना पड़ रहा है और अगर यह विनियमित नहीं हुई तो यह पतन हो जायेगी, जिसे सुनकर प्रधान मंत्री खुशी से सहमत हुए।

डॉ सिंह ने ‘उदारीकरण, निजीकरण और वैश्वीकरण’ की नीति अपनाई और दुनिया के साथ भारत की अर्थव्यवस्था का एकीकरण शुरू किया। उन्होंने जो कदम उठाए जैसे परमिट राज का उन्मूलन, अर्थव्यवस्था पर राज्य नियंत्रण में कमी, उच्च आयात करों में कमी, जिससे देश की शुरुआत बाहरी दुनिया में हुई। उनके पास भारत की अर्थव्यवस्था को समाजवादी से पूंजीवादी तक बदलने का दायित्व है। सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों को निजीकरण के लिए खुला बनाया गया और उन्होंने प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के लिए मार्ग को मंजूरी दे दी।

इन चरणों ने न केवल भारत की अर्थव्यवस्था को बल्कि वैश्वीकरण को भी बढ़ावा दिया। डॉ सिंह के द्वारा किया गया आर्थिक सुधार अब भारत के आर्थिक अतीत का एक अविभाज्य हिस्सा है और भारत को विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र देश बनाता हैं। उनके नेतृत्व में किए गए सुधारों का प्रभाव और पहुंच इस तरह थी की जब वह भारत के प्रधान मंत्री बनने के लिए चुने गए तो पूरा राष्ट्र उनके साथ खड़ा था। इनकी कोई भी राजनीति पृष्ठभूमि नहीं थी फिर भी उनकी विशाल क्षमता, सांसारिक ज्ञान और दृष्टिकोण ने एक राष्ट्र को सफलतापूर्वक चलाने के लिए उन्हें वर्ष २००४ मे प्रधानमंत्री के तौर पे चुना गया।

अपने कार्यकाल के दौरान जिसकी अवधी एक दशक २००४ से २०१४ तक थी, डॉ सिंह की सरकार ने महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल ki और उनका व्यक्तिगत नियंत्रण उल्लेखनीय है। वह एकमात्र प्रधान मंत्री है जिसके तहत राष्ट्र की अर्थव्यवस्था ने आठ वर्षों की अवधि में ८ प्रतिशत की निरंतर वार्षिक सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर का आनंद लिया। चीन के अलावा, किसी भी अन्य अर्थव्यवस्था ने इस तरह की विकास दर को छुआ नहीं है।

२००८ के वैश्विक मंदी के दौरान, भारतीय अर्थव्यवस्था स्थिर थी और उनकी ठोस नीतियों के कारण काफी हद तक सकुशल थी। उन्होंने कई युगांतकारी निर्णय लिए और वह ऐतिहासिक रूप से आज भी क्रियात्मक हैं वे हैं एनआरईजीए, आरटीआई और यूआईडी। एनआरईजीए (राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम, २००५) ने समाज के सबसे गरीब वर्ग को न्यूनतम मजदूरी की गारंटी दी और लोगों के जीवन में सुधार करने में मदद की। असाधारण आरटीआई (सूचना का अधिकार अधिनियम, २००५), भ्रष्टाचार से निपटने के लिए सूचना प्राप्त करने के लिए निर्विवाद और एकल शक्तिशाली उपकरण है। एक बार यह कार्य शुरू हो जाने के बाद, यह भारत के लाखों नागरिकों का एक महत्वपूर्ण और अविभाज्य हिस्सा बन गया है। अंत में, यूआईडी (अद्वितीय पहचान आधार ) जो नागरिकों का सार्वभौमिक डेटाबेस होने का वादा करता है और सरकार के कई लाभों का लाभ उठाने में मदद करेगा।

डॉ सिंह न केवल बहुत शिक्षित हैं, बल्कि प्रधान मंत्री के पद पर कदम रखने से पहले नीति निर्माण में प्रत्यक्ष व्यक्तिगत भागीदारी के साथ उनके पास विभिन्न सरकारी पदों में विशाल प्रशासनिक अनुभव थे। चंद शब्दों में कहा जाए एक सरल व्यक्ति डॉ सिंह उच्च बुद्धि वाले राष्ट्र की अर्थव्यवस्था के लिए एक मसीहा थे। डॉ सिंह इतिहास में सबसे योग्य प्रधान मंत्री के रूप में खरे उतरें जिन्होंने चुनावी वादों को पूरा किया, सुधार लाए और भारत के अर्थव्यवस्था को अपने बहुमुखी नेतृत्व के तहत स्थापित किया।




Comments

LEAVE A REPLY

हाल की पोस्ट

बिहार को जरूरत है युवा उधमियो का समर्थन करने के लिये एक मज़बूत प्रणाली की

December 17, 2018

गुरु नानक की शिक्षाओं की भारत के आर्थिक विकास के लिए प्रासंगिकता

November 23, 2018

जीवन के विरोधाभासी आयामों की अन्योन्यक्रिया पर प्रतिबिंब

November 22, 2018

दिल्ली में वायु प्रदूषण: एक हल करने योग्य चुनौती

November 12, 2018

कैसे एक मुगल युवराज असहिष्णुता के शिकार बन गए

November 2, 2018

प्रवासी भारतीय दिवस (पीबीडी) २०१‍९ वाराणसी में २१- २३ जनवरी को आयोजित किया जा रहा है

October 31, 2018

प्रवासी भारतीयों के लिए सूचना का अधिकार (आरटीआई): सरकार एनआरआई को आवेदन दर्ज करने की अनुमति देती है|

October 29, 2018

सबरीमाला मंदिर: क्या मासिक धर्म के दौरान महिलाएं ब्रह्मचर्य देवताओं के लिए कोई खतरा है?

2018-10-20

नवजोत सिंह सिद्धू: एक आशावादी या संकुचित उप राष्ट्रवादी?

October 15, 2018

भारत का ‘मी टू’ क्षण: शक्ति विभेदक और लिंग निष्पक्षता संबंध पर प्रभाव

October 10, 2018