भारत में बुजुर्गों की देखभाल: एक मजबूत सामाजिक देखभाल प्रणाली के लिए अत्यावश्यक - TIR News - The India Review


 

भारत में बुजुर्गों की देखभाल: एक मजबूत सामाजिक देखभाल प्रणाली के लिए अत्यावश्यक

September 20, 2018

भारत १.३५ अरब की कुल जनसंख्या के साथ दुनिया के सबसे बड़े देशों में से एक है और २०५० तक इस संख्या का १.७ अरब तक पहुंचने का अनुमान है। भारत २०२४ तक चीन की आबादी को पार करने और ग्रह पर सबसे अधिक आबादी वाला देश बनने की संभावना है।

पिछले दो दशकों में जीवन जन्म प्रत्याशा में १‍० से अधिक वर्षों की वृद्धि हुई है और जीवन प्रत्याशा ६५ वर्ष हो चुका है. स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं में सुधार के कारण अब शिशु मृत्यु दर को नियंत्रित करना, जीवन-घटित देने वाली बीमारियों और बेहतर पोषण ने नियंत्रित करने में योगदान दिया है। भारत में अधिकांश वयस्कों के पास काम से सेवानिवृत्ति के बाद अब कम से कम १‍० साल हैं। भारत की आयुवार जनसंख्या वितरण से पता चलता है कि कुल जनसंख्या का लगभग ६% आबादी ६५ वर्ष से अधिक आयु के है। २०५० तक लगभग ५ लोगों में से १ यानी ३०० मिलियन से अधिक लोग ६० वर्ष से अधिक आयु के होंगे, जबकि ८० वर्ष से अधिक आयु की संख्या सात गुना बढ़ जाएगी। विकलांगों, बीमारियों, और मानसिक विकारों से पीड़ित होने के कारण भारत की बुजुर्ग आबादी का यह सबसे बड़ा बढ़ता खंड सबसे कमजोर है।

सामाजिक देखभाल क्षेत्र देश के आर्थिक विकास का एक अभिन्न हिस्सा है। यह क्षेत्र उन लोगों को जिनको विशेष जरूरतों है और वृद्ध लोगों के साथ बच्चों या वयस्कों को विशेष सेवाओं के माध्यम से शारीरिक, भावनात्मक और सामाजिक सहायता प्रदान करता है। ये लोग अपने जीवन में अलग-अलग चरणों में या तो जोखिम में हैं या बीमारी विकलांगता, बुढ़ापे या गरीबी के समस्याओ से होने वाले कारक से जुझ रहे है। निवास या अस्पतालों में प्रशिक्षित चिकित्सा पेशेवरों द्वारा उन्हें स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं की आवश्यकता होती है। उन्हें नियंत्रण और सम्मान के साथ स्वतंत्र दैनिक जीवन जीने के लिए देखभाल और समर्थन की आवश्यकता होती है। सामाजिक देखभाल सेवाएं किसी व्यक्ति के घर या देखभाल गृह में प्रदान की जा सकती हैं। वृद्ध आबादी को देखभाल और समर्थन प्रदान करना सामाजिक देखभाल क्षेत्र का एक महत्वपूर्ण घटक है। भारत में बुजुर्गों की आबादी ५००% अधिक दर से बढ़ रही है इसलिए यह समझना महत्वपूर्ण है कि इस बढ़ती आबादी को उनके जीवन के आखिरी दशकों में उचित सामाजिक देखभाल कैसे प्रदान की जा सकती है।

बुजुर्ग लोगों को उम्र से संबंधित अतिरिक्त जरूरतों और चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। उनको शारीरिक चिकित्सा, सामाजिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक की जरूरत है। ७५-८० वर्ष की उम्र के करीब, उन्हें अपने दिनचर्या में सहायता और देखभाल की आवश्यकता होती है जो उन्हें दैनिक कार्यों के लिए सहायता स्वीकार करते हुए सम्मान के साथ स्वतंत्र रहने में मदद करता है। बुजुर्गों को स्वस्थ और आरामदायक रहने के लिए उचित पोषण और स्वास्थ्य सेवाओं का समय पर वितरण होना चाहिए। उनको बौद्धिक और सामाजिक ज़रूरत भी है इसलिए उन्हें दूसरों के साथ संवाद करने और उन कार्यों को करने की ज़रूरत है जिन्हें वे पसंद करते हैं अन्यथा वे अलग और कमजोर महसूस करते हैं।

भारत जैसे विकासशील देश में सामाजिक-आर्थिक और लिंग असमानता वरिष्ठ नागरिकों को, दुर्व्यवहार और सामाजिक बहिष्कार के प्रति अधिक संवेदनशील बनाती है। भारत में बुजुर्गों के लिए स्वास्थ्य देखभाल खर्चों को पूरा करना वित्तीय बाधा है क्योंकि इसमें से अधिकांश को अपनी जेब खर्च से पूरा करना पड़ता है।

वर्तमान सार्वजनिक हेल्थकेयर बुनियादी ढांचे और वृध्द संबंधी देखभाल सहित सेवाएं बहुत सीमित हैं। अच्छी स्वास्थ्य देखभाल और सभ्य बुजुर्ग घर ज्यादातर ग्रामीण आबादी (लगभग ६७% आबादी) की उपेक्षा करने वाले शहरी क्षेत्रों में केंद्रित हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में, सीमित गतिशीलता, कठिन इलाके और सीमित वित्तीय क्षमता बुजुर्गों के लिए स्वास्थ्य देखभाल तक पहुंच को बाधित करती है।

भारत में बुजुर्गों के लिए एक महत्वपूर्ण मुद्दा वित्तीय निर्भरता है। भारत की पारंपरिक संयुक्त परिवार प्रणाली जो वृद्धावस्था में लोगों के लिए मुख्य आश्रय रही है, तेजी से शहरीकरण और आधुनिकीकरण के चलते विघटित हो रही है जो लघु परिवारों की ओर अग्रसर है। पिछले दशकों में शिक्षा और रोजगार ने देश के सामाजिक प्रवृतियों को बदल दिया है।

समाज में इन प्रवृत्तियों का बुजुर्गों पर प्रत्यक्ष प्रभाव पड़ता है। वे शारीरिक और मनोवैज्ञानिक दुर्व्यवहार के प्रति संवेदनशील हैं, वे चिंता और अवसाद से पीड़ित हैं और मानसिक स्वास्थ्य सेवाओं को उन तक पहुंचाने की आवश्यकता है। भारत में बुजुर्गों की जनसांख्यिकीय लिंग और आर्थिक विशेषताओं में उल्लेखनीय असमानता है। भारत की सांस्कृतिक और पारंपरिक प्रणालियों के टूटने के परिणामस्वरूप एक व्यक्तिगत समाज का आगाज हो रहा है और यह बुजुर्गों के सामाजिक अलगाव को बढ़ावा दे रहा है और उन्हें अधिक कमजोर बना रहा है।

भारत में बुजुर्गों के लिए सफल स्थापना और मजबूत सामाजिक देखभाल प्रणाली के प्रावधान के लिए कई कारक महत्वपूर्ण होंगे। सबसे पहले, विशेष और नि:शुल्क चिकित्सा स्वास्थ्य सेवा प्रणाली की आवश्यकता है। सरकार जल्द ही आयुषमान भारत नामक एक मुफ्त स्वास्थ्य योजना शुरू कर रही है जिसमें आय-आधारित जनगणना के आधार पर चयनित १‍० करोड़ परिवारों को पूरा करने के लिए शुरुवाती लक्ष्य रखा गया है। यह एक आशाजनक कदम है और यदि सफल हो तो यह बहुसंख्यक बुजुर्ग आबादी के लिए विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में फायदेमंद होगा।

दूसरा, अच्छी तरह से प्रशिक्षित सामाजिक देखभाल प्रदाताओं (चिकित्सा पेशेवरों के अलावा) बुजुर्गों को सामाजिक देखभाल सेवाओं को कुशलतापूर्वक प्रदान करने में सक्षम होने की भी आवश्यकता हैं। यह या तो अपने घर या विशेष देखभाल घरों या केंद्रों में हो सकता है। वर्तमान में भारत में ऐसे किसी भी बुनियादी ढांचे या मानव संसाधन की कमी है। बुनियादी ढांचे की स्थापना के बाद, सख्त नीतियों को तैयार करना और सामाजिक देखभाल में अभ्यास नैतिकता की निगरानी करना भी महत्वपूर्ण है।




Comments
VitaX Forskolin Revi

2018-09-23 07:27:05


Very good article! We are linking to this great content on our website. Keep up the great writing.


keo nha cai

2018-09-22 08:28:13


I believe this is one of the most significant information for me. And i am happy reading your article. However want to statement on some normal issues, The website taste is wonderful, the articles is in point of fact great : D. Just right job, cheers


LEAVE A REPLY

हाल की पोस्ट

बिहार को जरूरत है युवा उधमियो का समर्थन करने के लिये एक मज़बूत प्रणाली की

December 17, 2018

गुरु नानक की शिक्षाओं की भारत के आर्थिक विकास के लिए प्रासंगिकता

November 23, 2018

जीवन के विरोधाभासी आयामों की अन्योन्यक्रिया पर प्रतिबिंब

November 22, 2018

दिल्ली में वायु प्रदूषण: एक हल करने योग्य चुनौती

November 12, 2018

कैसे एक मुगल युवराज असहिष्णुता के शिकार बन गए

November 2, 2018

प्रवासी भारतीय दिवस (पीबीडी) २०१‍९ वाराणसी में २१- २३ जनवरी को आयोजित किया जा रहा है

October 31, 2018

प्रवासी भारतीयों के लिए सूचना का अधिकार (आरटीआई): सरकार एनआरआई को आवेदन दर्ज करने की अनुमति देती है|

October 29, 2018

सबरीमाला मंदिर: क्या मासिक धर्म के दौरान महिलाएं ब्रह्मचर्य देवताओं के लिए कोई खतरा है?

2018-10-20

नवजोत सिंह सिद्धू: एक आशावादी या संकुचित उप राष्ट्रवादी?

October 15, 2018

भारत का ‘मी टू’ क्षण: शक्ति विभेदक और लिंग निष्पक्षता संबंध पर प्रभाव

October 10, 2018